Himalaya Cystone Tablet & Cystone Syrup

Himalaya Cystone Tablet & Cystone Syrup Review: Ingredients, Uses, Benefits, Dosage, And Possible Side Effects

दोस्तों, आजकल पथरी की समस्या बहुत आम हो गई है, और इसका सामना कर रहे लोग तरह-तरह के नुस्खे अपना रहे हैं। पथरी या मूत्रमार्ग संक्रमण जैसी मूत्र प्रणाली सम्बन्धित समस्याओं के साथ संघर्ष करने वाले लोगों के लिए हिमालय सिस्टोन टैबलेट एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक दवा है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम आपको हिमालय सिस्टोन टैबलेट की समीक्षा प्रस्तुत करेंगे, जिसमें हम इसके सामग्री, उपयोग, लाभ, खुराक, और संभावित दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी देंगे।

Himalaya Cystone

हिमालय सिस्टोन टैबलेट और सिरप के रूप में उपलब्ध है, और यह मुख्यतः मूत्र को प्राकृतिक रूप से बढ़ाने और साफ करने के लिए उपयोग की जाती है। इसके साथ ही, यह पथरी के इलाज में भी कारगर मानी जाती है। यह दवा काफी समय से उपयोग की जाती है और आपको अपने नजदीकी दवा की दुकान में आसानी से मिल जाएगी।

हिमालय सिस्टोन टैबलेट पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक दवा है और इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। यदि आप या फिर आपके घर में कोई पथरी से परेशान है, तो इसे सिस्टोन टेबलेट (Himalaya Cystone) या सिरप का सेवन करने से काफी ज्यादा फायदा मिल सकता है।

Himalaya Cystone Tablet Ingredients

हिमालय सिस्टोन टैबलेट का मुख्य घटक है “शिलापुष्प” जिसे वैज्ञानिक रूप से “दिद्यमोकार्पस पेडीसेलाटा” कहा जाता है, जो कि पथरी के इलाज में मदद करता है। इसके साथ ही कई और प्राकृतिक घटक भी होते हैं जैसे कि पशनभेद, मंजिस्ता, मुस्ता, अपमार्ग, गोजिह्वा, सहदेवी, हजरुल यहूद भस्म, और शिलाजीत। ये सामग्री गुर्दे की पथरी को निकालने और मूत्र प्रणाली को स्वस्थ रखने में मदद कर सकती हैं।Cystone टैबलेट  में निम्नलिखित वनस्पति और खनिज तत्व होते हैं –

  • शिलापुष्प (दिद्यमोकार्पस पेडीसेलाटा) – 130 मिलीग्राम
  • पशनभेद (बर्गेनिया लिगुलाटा) – 98 मिलीग्राम
  • मंजिस्ता (रुबिया कोर्डिफोलिया) – 32 मिलीग्राम
  • मुस्ता (साइपरस रोटंडस) – 32 मिलीग्राम
  • अपमार्ग (अच्यरण्ठस्पेर) – 32 मिलीग्राम
  • गोजिह्वा (ओनोस्मा ब्रैक्टिएटम) – 32 मिलीग्राम
  • सहदेवी (वेरनोनियासिनेरिया) – 32 मिलीग्राम
  • हजरुल यहूद भस्म – 32 मिलीग्राम
  • शिलाजीतु – 26 मिलीग्राम

प्रोसेस्ड इन –

  • वन तुलसी (ओसिमम सैंक्टम)
  • गोक्षुरा (त्रिबुलस टेरेस्ट्रिस)
  • लज्जालु (मिमोसा पूडिका – टच मी नॉट प्लांट)
  • कुलत्थ (डोलिकोस बिफ्लोरस – हॉर्स ग्राम)
  • बालम (पवोनिया ओडोराटा)
  • जरातूटा (एक्विसेटम आरवेंस)
  • शकाबीजा (टेक्टोना ग्रांडिस)

Himalaya Cystone Tablet - Benefits

हिमालय सिस्टोन टैबलेट के फायदे:

  1. पथरी को निकालने में मददगार – हिमालय सिस्टोन टैबलेट पथरी को निकालने में मदद कर सकती है और गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने में सहायक हो सकती है.

  2. पथरी के बनने को रोकने में मदद – इसमें मौजूद तत्व बार-बार पथरी के बनने से रोक सकते हैं, जिससे यह आपके गुर्दे को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है.

  3. मूत्र संक्रमण को रोकने में – हिमालय सिस्टोन टैबलेट मूत्र संक्रमण को रोकने में मदद कर सकती है और आपके मूत्रमार्ग को स्वस्थ बना सकती है.

  4. मूत्रमार्ग में जलन को दूर करने में सहायक – यह आपके मूत्रमार्ग में जलन को कम करने में मदद कर सकता है और आपको आराम प्रदान कर सकता है.

  5. पथरी के बदले उन्नत प्रतिरक्षा प्रणाली – हिमालय सिस्टोन टैबलेट आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को सुधार सकता है और आपको अधिक सुरक्षित बना सकता है.

Himalaya Cystone Tablet - Dosage

हिमालय सिस्टोन टैबलेट की सामान्य खुराक निम्नलिखित होती है:

  • पथरी और क्रिस्टल्यूरिया के इलाज के लिए – वयस्क और बच्चों के लिए दिन में 2 टैबलेट, पथरी बाहर निकलने या लक्षण दूर होने तक, या यहाँ तक कि चिकित्सक की सलाह हो.
  • पथरी के छिद्रन या गुर्दे की पथरी के बाद फिर से आने को रोकने के बाद – 6 महीनों के लिए हर दिन 1 टैबलेट, सुबह और शाम में.
  • मूत्रमार्ग संक्रमण, इसके बाद आवरण में योग्य – संक्रमण दूर होने तक हर दिन 1 टैबलेट, दो बार रोज़ाना.
  • पेशाब के साथ जलन – यह लक्षण दूर होने तक हर दिन 1 टैबलेट, दो बार रोज़ाना.

यह खुराक रोग की गंभीरता और दीर्घकालिता के आधार पर समायोजित की जा सकती है, डॉक्टर की विश्लेषण और निर्णय पर निर्भर करती है।

कितनी देर तक उपयोग करें?

इस उत्पाद का उपयोग आपके डॉक्टर की सलाह के आधार पर 2 – 3 महीनों तक किया जा सकता है।

Himalaya Cystone Tablet - Side Effects

हिमालय सिस्टोन टैबलेट के साइड इफेक्ट:

  • इस दवा के साथ किसी प्रकार के ज्ञात साइड इफेक्ट नहीं हैं। हालांकि, यह सबसे अच्छा है कि इसे चिकित्सकीय पर्यवेक्षण के तहत उपयोग किया जाता है।
  • इसे धूप से दूर रखें और एक सुखद सूखी जगह पर संग्रहित करें।
  • बच्चों की पहुंच से दूर और दृश्य से दूर रखें।
  • गर्भावस्था के दौरान इसके उपयोग के बारे में अपने डॉक्टर की सलाह लें।

इस उत्पाद का सुरक्षित रूप से स्तनपान की अवधि में और बच्चों के लिए कुछ सप्ताहों के सीमित समय के लिए उपयोग किया जा सकता है।

Conclusion

हिमालय सिस्टोन टैबलेट एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक दवा है जो पथरी और मूत्र प्रणाली संबंधित समस्याओं के इलाज में मदद कर सकती है। यह बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए, और डॉक्टर के सुझाव के बावजूद किसी भी नई दवा का आविष्कार नहीं करना चाहिए। हमेशा डॉक्टर की सलाह पर चलें और उपयोग की खुराक का पालन करें।

यदि आपके पास इस दवा के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Scroll to Top